Press ESC to close

Poetry/Quotes

10 Articles
Salman
2 Min Read

    मंगल भाव से, बड़े चाव से। कर्मठ विज्ञानी, भारत अभिमानी। बुद्धि विकसित, कर्तव्य निष्ठित। इसरो के बुद्धिवीरों ने, अहर्निश जब कर्म किया, मंगलयान ने मंगल कक्षा में गमन किया।…

Editor-in-Chief
2 Min Read

जो हुआ बुरा हुआ पर अब तक क्यूँ मातम है? शहर जला तो चुप थे एक घर जलने पर मातम है? हर चीज को क्यूँ देखते हो मजहबी आईने से?…

error: Content is protected !!