Byomkesh Bakshi ki Rahasyamayi Kahaniyan (hindi)

From the Publisher

Byomkesh Bakshi ki Rahasyamayi Kahaniyan by Saradindu Bandyopadhyay

Byomkesh Bakshi ki Rahasyamayi Kahaniyan by Saradindu Bandyopadhyay Byomkesh Bakshi ki Rahasyamayi Kahaniyan by Saradindu Bandyopadhyay

सारदेंदु बंद्योपाध्याय की विशिष्टता उनके जासूसी लेखन के अतिरिक्त उनकी अद्वितीय लेखन-शैली के साथ-साथ उनके चरित्रों का सूक्ष्म जीवंत चित्रण है।

बीसवीं सदी के प्रारंभ के बंगाल में लेखक और पाठक समान रूप से अपराध और जासूसी साहित्य को नीची निगाहों से देखते थे। सारदेंदु बंद्योपाध्याय ने पहली बार उस लेखन को सम्मानीय स्थान दिलाया।इसका एक बड़ा कारण यह था कि उनके पूर्व के लेखक पंचकोरी दे और दिनेंद्र कुमार अंग्रेजी के जासूसी लेखक आर्थर कोनान, डोएल, एडगर एलन पो, जी.के. चेस्टरसन तथा अगाथा क्रिस्टी से प्रभावित होकर लिखते थे, जबकि सारदेंदु के चरित्र और स्थान अन्य जासूसी उपन्यासों के विपरीत, भारतीय मूल और स्थल के परिवेश में जीते हैं। उनके लेखन का विनोदी स्वभाव पाठक को अनायास कथा के दौरान गुदगुदाता रहता है।ब्योमकेश का साहित्य न केवल अभूतपूर्व जासूसी साहित्य है बल्कि सभी समय और काल में, समाज के सभी वर्गों के युवाओं और वृद्धों में समान रूप से सदैव लोकप्रिय बना रहा है। पाठक इन रहस्य भरी कहानियों को उनके जीवंत लेखन के लिए, अंत जानने के बावजूद, बार-बार पढ़ने के लिए लालायित रहता है। किसी भी लोकप्रिय साहित्य में यह एक अद्वितीय उपलब्धि मानी जाती है और यही उपलब्धि सारदेंदु के ब्योमकेश बक्शी साहित्य को सत्यजीत राय के प्रसिद्ध उपन्यास ‘फेलूदा के कारनामे’ के समान हमारे समय के ‘क्लासिक’ का स्थान दिलाती है।

अनुक्रम :-

सत्यान्वेषी (दि इनविजिटर)ग्रामोफोन पिन का रहस्यतरनतुला का जहरवसीयत का जंजालविपदा का संहार!

***

Saradindu BandyopadhyaySaradindu Bandyopadhyay

Saradindu Bandyopadhyay

सारदेंदु बंद्योपाध्याय का जन्म 30 मार्च, 1899 को उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में हुआ था।

उनके साहित्यिक जीवन की शुरुआत कविता-संग्रह से हुई, जो 1919 में प्रकाशित हुआ। सन् 1938 में सारदेंदु ‘बॉम्बे टाकीज’ तथा अन्य फिल्म प्रतिष्ठानों में पटकथा लेखक के रूप में कार्य हेतु बंबई चले गए, जहाँ उन्होंने 1952 तक काम किया। इसके बाद उन्होंने फिल्मों में लिखना छोड़ दिया और पुणे आ गए तथा अपना ध्यान पुनः साहित्य-लेखन में लगाया। बाद में चलकर वे बँगला साहित्य में भूत-प्रेतों की कहानियों, ऐतिहासिक पे्रम-प्रसंगों और बाल-साहित्य के लोकप्रिय और प्रख्यात लेखक के रूप में उभरकर आए। किंतु ब्योमकेश की कहानियों का समकालीन बँगला साहित्य में आज भी योगदान माना जाता है।सारदेंदु बंद्योपाध्याय को उनके उपन्यास ‘तुंगभद्रा तीरे’ के लिए 1967 में ‘रवींद्र पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया। उसी वर्ष उन्हें कलकत्ता विश्वविद्यालय की ओर से ‘शरत स्मृति पुरस्कार’ दिया गया। उनका बाद का जीवन पुणे में बीता, जहाँ 22 सितंबर, 1970 को उनका स्वर्गवास हो गया।

Sherlock Holmes Ki Paanch Superhit Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

Sherlock Holmes Ki Paanch Superhit Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

 Sherlock Holmes Ki Lokpriya Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

 Sherlock Holmes Ki Lokpriya Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

RAHASYAMAYA TAPOO BY ROBERT LEWIS STEVENSON

RAHASYAMAYA TAPOO BY ROBERT LEWIS STEVENSON

Sherlock Holmes Ki Paanch Superhit Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

होम्स ने घंटी बजाते हुए जवाब दिया, ‘‘कुछ ठंडा मीट और एक गिलास बियर हो जाए, मैं इतना व्यस्त था कि मैं खाने के बारे में सोच भी न सका और मेरी आज की शाम के भी व्यस्त रहने की संभावना है। डॉक्टर, मुझे तुम्हारे साथ की जरूरत होगी।’’ ‘‘मुझे इसमें खुशी होगी।’’ ‘‘तुम्हें कानून तोड़ना बुरा तो नहीं लगेगा?’’ ‘‘बिलकुल नहीं।’’ ‘‘गिरफ्तार होने की संभावना से भी नहीं?’’ ‘‘अच्छे कारण के लिए, बिलकुल नहीं।’’ ‘‘हाँ, कारण तो बहुत ही अच्छा है।’’ ‘‘तब तो मैं तुम्हारा ही आदमी हूँ।’’ ‘‘मुझे यकीन था कि मैं तुम पर भरोसा कर सकता हूँ।’’ ‘‘मगर, तुम चाहते क्या हो?’’ —इसी संग्रह से शेरलॉक होम्स की कहानियाँ दुनिया भर में जासूसी और साहसिक कारनामों के लिए जानी जाती हैं। कहानी के अंत तक रोमांच तथा सस्पेंस बना रहता है। बेहद पठनीय एवं रोमांच से भरपूर सर आर्थर कॉनन डॉयल सृजित पात्र शेरलॉक होम्स की लोकप्रिय कहानियों का पठनीय संग्रह।

Sherlock Holmes Ki Lokpriya Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

होम्स ने घंटी बजाते हुए जवाब दिया; ‘‘कुछ ठंडा मीट और एक गिलास बियर हो जाए; मैं इतना व्यस्त था कि मैं खाने के बारे में सोच भी न सका और मेरी आज की शाम के भी व्यस्त रहने की संभावना है। डॉक्टर; मुझे तुम्हारे साथ की जरूरत होगी।’’ ‘‘मुझे इसमें खुशी होगी।’’ ‘‘तुम्हें कानून तोड़ना बुरा तो नहीं लगेगा?’’ ‘‘बिलकुल नहीं।’’ ‘‘गिरफ्तार होने की संभावना से भी नहीं?’’ ‘‘अच्छे कारण के लिए; बिलकुल नहीं।’’ ‘‘हाँ; कारण तो बहुत ही अच्छा है।’’ ‘‘तब तो मैं तुम्हारा ही आदमी हूँ।’’ ‘‘मुझे यकीन था कि मैं तुम पर भरोसा कर सकता हूँ।’’ ‘‘मगर; तुम चाहते क्या हो?’’ —इसी संग्रह से • शेरलॉक होम्स की कहानियाँ दुनिया भर में जासूसी और साहसिक कारनामों के लिए जानी जाती हैं। कहानी के अंत तक रोमांच तथा सस्पेंस बना रहता है। बेहद पठनीय एवं रोमांच से भरपूर सर आर्थर कॉनन डॉयल सृजित पात्र शेरलॉक होम्स की लोकप्रिय कहानियों का पठनीय संग्रह।

RAHASYAMAYA TAPOO BY ROBERT LEWIS STEVENSON

प्रस्तुत उपन्यास ‘रहस्यमय टापू’ अंग्रेजी के प्रख्यात साहित्यकार रॉबर्ट लुइस स्टीवेंसन के प्रसिद्ध अंग्रेजी उपन्यास ‘ट्रैजर आइलैंड’ का हिंदी रूपांतरण है। जब वर्ष 1883 में यह पहली बार प्रकाशित हुआ तब पाठकों के बीच अत्यंत लोकप्रिय हुआ था। यह एक बेहद रोचक-रोमांचक एवं साहसपूर्ण कथा है। उपन्यास का किशोर नायक जिम जिस प्रकार खजाने की खोज में निकलता है और समुद्र के बीच एक निर्जन टापू पर खूँखार डाकुओं का सामना करता है; वहीं कदम-कदम पर हैरतअंगेज घटनाओं से उसका सामना होता है। उपन्यास के मध्य ऐसी रोमांचक घटनाएँ घटती हैं जिन्हें पढ़कर रोंगटे खड़े हो जाते हैं। यह प्रत्येक वय के पाठकों के लिए पठनीय और मनोरंजनपूर्ण है। यह उपन्यास विश्‍व के अमर ग्रंथों (वर्ल्ड क्लासिक्स) में गिना गया है। प्रकाशन के सवा सौ वर्षों के पश्‍चात् स्‍टीवेंसन का यह उपन्यास आज भी अत्यंत लोकप्रिय है।

ASIN ‏ : ‎ 9352661214
Publisher ‏ : ‎ Prabhat Prakashan; 1st edition (1 January 2020); Prabhat Prakashan – Delhi
Language ‏ : ‎ Hindi
Paperback ‏ : ‎ 176 pages
ISBN-10 ‏ : ‎ 9789352661213
ISBN-13 ‏ : ‎ 978-9352661213
Item Weight ‏ : ‎ 180 g
Dimensions ‏ : ‎ 13.97 x 1.04 x 21.59 cm
Importer ‏ : ‎ Prabhat Prakashan – Delhi
Packer ‏ : ‎ Prabhat Prakashan – Delhi
Generic Name ‏ : ‎ Books

184.3

Added to wishlistRemoved from wishlist 0
  Ask a Question

Price: ₹184.30
(as of Feb 02,2023 09:10:15 UTC – Details)


From the Publisher

Byomkesh Bakshi ki Rahasyamayi Kahaniyan by Saradindu Bandyopadhyay

Byomkesh Bakshi ki Rahasyamayi Kahaniyan by Saradindu Bandyopadhyay Byomkesh Bakshi ki Rahasyamayi Kahaniyan by Saradindu Bandyopadhyay

सारदेंदु बंद्योपाध्याय की विशिष्टता उनके जासूसी लेखन के अतिरिक्त उनकी अद्वितीय लेखन-शैली के साथ-साथ उनके चरित्रों का सूक्ष्म जीवंत चित्रण है।

बीसवीं सदी के प्रारंभ के बंगाल में लेखक और पाठक समान रूप से अपराध और जासूसी साहित्य को नीची निगाहों से देखते थे। सारदेंदु बंद्योपाध्याय ने पहली बार उस लेखन को सम्मानीय स्थान दिलाया।इसका एक बड़ा कारण यह था कि उनके पूर्व के लेखक पंचकोरी दे और दिनेंद्र कुमार अंग्रेजी के जासूसी लेखक आर्थर कोनान, डोएल, एडगर एलन पो, जी.के. चेस्टरसन तथा अगाथा क्रिस्टी से प्रभावित होकर लिखते थे, जबकि सारदेंदु के चरित्र और स्थान अन्य जासूसी उपन्यासों के विपरीत, भारतीय मूल और स्थल के परिवेश में जीते हैं। उनके लेखन का विनोदी स्वभाव पाठक को अनायास कथा के दौरान गुदगुदाता रहता है।ब्योमकेश का साहित्य न केवल अभूतपूर्व जासूसी साहित्य है बल्कि सभी समय और काल में, समाज के सभी वर्गों के युवाओं और वृद्धों में समान रूप से सदैव लोकप्रिय बना रहा है। पाठक इन रहस्य भरी कहानियों को उनके जीवंत लेखन के लिए, अंत जानने के बावजूद, बार-बार पढ़ने के लिए लालायित रहता है। किसी भी लोकप्रिय साहित्य में यह एक अद्वितीय उपलब्धि मानी जाती है और यही उपलब्धि सारदेंदु के ब्योमकेश बक्शी साहित्य को सत्यजीत राय के प्रसिद्ध उपन्यास ‘फेलूदा के कारनामे’ के समान हमारे समय के ‘क्लासिक’ का स्थान दिलाती है।

अनुक्रम :-

सत्यान्वेषी (दि इनविजिटर)ग्रामोफोन पिन का रहस्यतरनतुला का जहरवसीयत का जंजालविपदा का संहार!

***

Saradindu BandyopadhyaySaradindu Bandyopadhyay

Saradindu Bandyopadhyay

सारदेंदु बंद्योपाध्याय का जन्म 30 मार्च, 1899 को उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में हुआ था।

उनके साहित्यिक जीवन की शुरुआत कविता-संग्रह से हुई, जो 1919 में प्रकाशित हुआ। सन् 1938 में सारदेंदु ‘बॉम्बे टाकीज’ तथा अन्य फिल्म प्रतिष्ठानों में पटकथा लेखक के रूप में कार्य हेतु बंबई चले गए, जहाँ उन्होंने 1952 तक काम किया। इसके बाद उन्होंने फिल्मों में लिखना छोड़ दिया और पुणे आ गए तथा अपना ध्यान पुनः साहित्य-लेखन में लगाया। बाद में चलकर वे बँगला साहित्य में भूत-प्रेतों की कहानियों, ऐतिहासिक पे्रम-प्रसंगों और बाल-साहित्य के लोकप्रिय और प्रख्यात लेखक के रूप में उभरकर आए। किंतु ब्योमकेश की कहानियों का समकालीन बँगला साहित्य में आज भी योगदान माना जाता है।सारदेंदु बंद्योपाध्याय को उनके उपन्यास ‘तुंगभद्रा तीरे’ के लिए 1967 में ‘रवींद्र पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया। उसी वर्ष उन्हें कलकत्ता विश्वविद्यालय की ओर से ‘शरत स्मृति पुरस्कार’ दिया गया। उनका बाद का जीवन पुणे में बीता, जहाँ 22 सितंबर, 1970 को उनका स्वर्गवास हो गया।

Sherlock Holmes Ki Paanch Superhit Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

Sherlock Holmes Ki Paanch Superhit Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

 Sherlock Holmes Ki Lokpriya Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

 Sherlock Holmes Ki Lokpriya Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

RAHASYAMAYA TAPOO BY ROBERT LEWIS STEVENSON

RAHASYAMAYA TAPOO BY ROBERT LEWIS STEVENSON

Sherlock Holmes Ki Paanch Superhit Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

होम्स ने घंटी बजाते हुए जवाब दिया, ‘‘कुछ ठंडा मीट और एक गिलास बियर हो जाए, मैं इतना व्यस्त था कि मैं खाने के बारे में सोच भी न सका और मेरी आज की शाम के भी व्यस्त रहने की संभावना है। डॉक्टर, मुझे तुम्हारे साथ की जरूरत होगी।’’ ‘‘मुझे इसमें खुशी होगी।’’ ‘‘तुम्हें कानून तोड़ना बुरा तो नहीं लगेगा?’’ ‘‘बिलकुल नहीं।’’ ‘‘गिरफ्तार होने की संभावना से भी नहीं?’’ ‘‘अच्छे कारण के लिए, बिलकुल नहीं।’’ ‘‘हाँ, कारण तो बहुत ही अच्छा है।’’ ‘‘तब तो मैं तुम्हारा ही आदमी हूँ।’’ ‘‘मुझे यकीन था कि मैं तुम पर भरोसा कर सकता हूँ।’’ ‘‘मगर, तुम चाहते क्या हो?’’ —इसी संग्रह से शेरलॉक होम्स की कहानियाँ दुनिया भर में जासूसी और साहसिक कारनामों के लिए जानी जाती हैं। कहानी के अंत तक रोमांच तथा सस्पेंस बना रहता है। बेहद पठनीय एवं रोमांच से भरपूर सर आर्थर कॉनन डॉयल सृजित पात्र शेरलॉक होम्स की लोकप्रिय कहानियों का पठनीय संग्रह।

Sherlock Holmes Ki Lokpriya Kahaniyan by Sir Arthur Conan Doyle

होम्स ने घंटी बजाते हुए जवाब दिया; ‘‘कुछ ठंडा मीट और एक गिलास बियर हो जाए; मैं इतना व्यस्त था कि मैं खाने के बारे में सोच भी न सका और मेरी आज की शाम के भी व्यस्त रहने की संभावना है। डॉक्टर; मुझे तुम्हारे साथ की जरूरत होगी।’’ ‘‘मुझे इसमें खुशी होगी।’’ ‘‘तुम्हें कानून तोड़ना बुरा तो नहीं लगेगा?’’ ‘‘बिलकुल नहीं।’’ ‘‘गिरफ्तार होने की संभावना से भी नहीं?’’ ‘‘अच्छे कारण के लिए; बिलकुल नहीं।’’ ‘‘हाँ; कारण तो बहुत ही अच्छा है।’’ ‘‘तब तो मैं तुम्हारा ही आदमी हूँ।’’ ‘‘मुझे यकीन था कि मैं तुम पर भरोसा कर सकता हूँ।’’ ‘‘मगर; तुम चाहते क्या हो?’’ —इसी संग्रह से • शेरलॉक होम्स की कहानियाँ दुनिया भर में जासूसी और साहसिक कारनामों के लिए जानी जाती हैं। कहानी के अंत तक रोमांच तथा सस्पेंस बना रहता है। बेहद पठनीय एवं रोमांच से भरपूर सर आर्थर कॉनन डॉयल सृजित पात्र शेरलॉक होम्स की लोकप्रिय कहानियों का पठनीय संग्रह।

RAHASYAMAYA TAPOO BY ROBERT LEWIS STEVENSON

प्रस्तुत उपन्यास ‘रहस्यमय टापू’ अंग्रेजी के प्रख्यात साहित्यकार रॉबर्ट लुइस स्टीवेंसन के प्रसिद्ध अंग्रेजी उपन्यास ‘ट्रैजर आइलैंड’ का हिंदी रूपांतरण है। जब वर्ष 1883 में यह पहली बार प्रकाशित हुआ तब पाठकों के बीच अत्यंत लोकप्रिय हुआ था। यह एक बेहद रोचक-रोमांचक एवं साहसपूर्ण कथा है। उपन्यास का किशोर नायक जिम जिस प्रकार खजाने की खोज में निकलता है और समुद्र के बीच एक निर्जन टापू पर खूँखार डाकुओं का सामना करता है; वहीं कदम-कदम पर हैरतअंगेज घटनाओं से उसका सामना होता है। उपन्यास के मध्य ऐसी रोमांचक घटनाएँ घटती हैं जिन्हें पढ़कर रोंगटे खड़े हो जाते हैं। यह प्रत्येक वय के पाठकों के लिए पठनीय और मनोरंजनपूर्ण है। यह उपन्यास विश्‍व के अमर ग्रंथों (वर्ल्ड क्लासिक्स) में गिना गया है। प्रकाशन के सवा सौ वर्षों के पश्‍चात् स्‍टीवेंसन का यह उपन्यास आज भी अत्यंत लोकप्रिय है।

ASIN ‏ : ‎ 9352661214
Publisher ‏ : ‎ Prabhat Prakashan; 1st edition (1 January 2020); Prabhat Prakashan – Delhi
Language ‏ : ‎ Hindi
Paperback ‏ : ‎ 176 pages
ISBN-10 ‏ : ‎ 9789352661213
ISBN-13 ‏ : ‎ 978-9352661213
Item Weight ‏ : ‎ 180 g
Dimensions ‏ : ‎ 13.97 x 1.04 x 21.59 cm
Importer ‏ : ‎ Prabhat Prakashan – Delhi
Packer ‏ : ‎ Prabhat Prakashan – Delhi
Generic Name ‏ : ‎ Books

Shipping Policy

Thank you for visiting and using poeticmemento.in. Following are the terms and conditions that constitute our Shipping Policy. Shipping at Poeticmemento.com (Poetic Memento Services) will be dealt with based on mutual agreement of the service buyer and service seller.

Domestic Shipping Policy

Shipment processing time

All orders are processed within 1-2 business days. Orders are not shipped or delivered on weekends or holidays.

If we are experiencing a high volume of orders, shipments may be delayed by a few days. Please allow additional days in transit for delivery. If there will be a significant delay in shipment of your order.

Shipping rates & delivery estimates

Shipping will be done by the respective vendors via their own courier partners 

Shipping charges for your order will be calculated and displayed at checkout. The vendor should ship the product within three days. Product/s generally reaches to the domestic buyer in 3 to 8 days.

Shipment to P.O. boxes or APO/FPO addresses

Poeticmemento.in ships to addresses within India and abroad through respective vendors (business owners).

Shipment confirmation & Order tracking

You will receive a Shipment Confirmation email once your order has shipped containing your tracking number(s). The tracking number will be active within 24 hours.

Customs, Duties, and Taxes

Poeticmemento.in is not responsible for any customs and taxes applied to your order. All fees imposed during or after shipping are the responsibility of the customer (tariffs, taxes, etc.).

Damages

Poeticmemento.in   is not liable for any products damaged or lost during shipping. If you received your order damaged, please contact the shipping carrier to file a claim. Please save all packaging materials and damaged goods before filing a claim. We shall strive to help you to get the refund of your damaged products. We may consider replacing products if reasons are found genuine.

Returns Policy

Our Return & Refund Policy provides information about procedures for returning your order.

Refund Policy

Our focus is on complete customer satisfaction. In the event, if you are displeased with the products & services provided, we will refund back the money, provided the reasons are genuine and proved after an investigation. Please read the fine prints of each deal before buying it, it provides all the details about the services or the product you purchase.

In case of dissatisfaction from our products & services, clients have the liberty to cancel their deals and request a refund from us. Our Policy for the cancellation and refund will be as follows:


Cancellation / Return / Exchange Policy

We will try our best to provide the best product and services to our members, clients and associates.

In case the user is not completely satisfied with our products we can provide a refund subjected to genuine reasons.

If paid by credit card, refunds will be issued to the original credit card provided at the time of purchase and in case of payment gateway uses, payments refund will be made to the same account.

Refund Policy

In case the user is not completely satisfied with our products we can provide a refund subjected to genuine reasons. If paid by credit card, refunds will be issued to the original credit card provided at the time of purchase and in case of payment gateway,  payments refund will be made to the same account.

Cancellation Policy

For Cancellations please contact us via contact us link.

Requests received later than 7 business days prior to the end of the current service period will be treated as a cancellation of services for the next service period.

General Inquiries

There are no inquiries yet.

Byomkesh Bakshi ki Rahasyamayi Kahaniyan (hindi)
Byomkesh Bakshi ki Rahasyamayi Kahaniyan (hindi)

184.3

Pomento
Logo
Register New Account
Reset Password
Shopping cart